Precautions for Diabetes: डायबिटीज के मरीजों को रात में सोने से पहले जरूर करनी चाहिए ये चीजें, मिलेगा फायदा

Precautions for Diabetes: मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो हर उम्र के लोगों को प्रभावित कर रही है। भारत में भी मधुमेह के मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। मधुमेह रोगियों को अपने खान-पान और जीवनशैली का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। ऐसे में आज हम आपको सोने के कुछ ऐसे रूटीन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे डायबिटीज के मरीजों को जरूर फॉलो करना चाहिए।

Precautions for Diabetes
Precautions for Diabetes

मधुमेह एक पुरानी बीमारी है जिसे जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता है लेकिन जीवनशैली में बदलाव करके इसे नियंत्रण में रखा जा सकता है। डायबिटीज की समस्या 3 तरह की होती है- टाइप 1 डायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज और जेस्टेशनल डायबिटीज। शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ने पर डायबिटीज की समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल की लगातार जांच, समय पर दवाइयां लेने और रोजाना व्यायाम करने से डायबिटीज को मैनेज किया जा सकता है।

डायबिटीज की समस्या है तो जरूरी है कि आप सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक अपनी सभी गतिविधियों पर ध्यान दें। अगर आप भी डायबिटीज की समस्या से जूझ रहे हैं और इसे कंट्रोल करना चाहते हैं तो हम आपको कुछ ऐसे बेडटाइम रूटीन के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे आपको रोजाना फॉलो करना चाहिए। आइए जानते हैं सोने के इन रूटीन के बारे में-

अपना शयनकक्ष तैयार करें

Precautions for Diabetes: डायबिटीज से पीड़ित लगभग 50 प्रतिशत लोगों को बार-बार प्यास लगने, पेशाब करने, नसों में दर्द और बेकाबू भूख लगने के कारण रात को सोने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इन सब चीजों से निजात पाने के लिए आप अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें, लेकिन सोने का रूटीन बनाकर भी आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

अच्छी नींद के लिए जरूरी है कि मधुमेह के मरीज रात को सोने से पहले गुनगुने पानी से नहाएं और कोई किताब पढ़ें।

रात को सोने से पहले कमरे की रोशनी कम कर दें और फोन की स्क्रीन का इस्तेमाल कम से कम करें। इसके साथ ही यह भी जरूरी है कि कमरे में नीली रोशनी का प्रयोग न करें। इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से निकलने वाली नीली रोशनी मस्तिष्क को संकुचित करती है, जिससे आप अधिक समय तक जागते रहते हैं।

अगर आपको रात में सोने में परेशानी होती है तो जरूरी है कि आप कमरे का तापमान बनाए रखें।

अगर जरा सी भी आवाज आपको जगा देती है तो जरूरी है कि आप कमरे का दरवाजा बंद करके और फोन साइलेंट रखकर सोएं।

सोने के समय नाश्ता

डायबिटीज के मरीजों को सोते समय स्नैक्स लेने से बचना चाहिए क्योंकि इससे आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है। लेकिन कई बार डायबिटीज के मरीजों को रात में बहुत तेज भूख लगती है जिससे उनकी नींद खुल जाती है। रात को भूख लगने पर जरूरी है कि डायबिटीज के मरीज हेल्दी चीजों का सेवन करें ताकि आपका ब्लड शुगर लेवल मेंटेन रहे। यह महत्वपूर्ण है कि आप सोते समय स्नैक्स के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

डायबिटीज के मरीज रात को भूख लगने पर अनाज, एवोकाडो, लो-शुगर योगर्ट, पीनट बटर सैंडविच आदि खा सकते हैं।

इसके साथ ही ध्यान दें कि रात को जब भूख लगे तो स्नैक्स कम मात्रा में ही खाएं। नहीं तो ज्यादा कैलोरी लेने से आपका वजन बढ़ सकता है। साथ ही आपको रोजाना सुबह उठने के बाद अपने ब्लड शुगर लेवल पर नजर रखनी चाहिए।

अपने पैरों पर विशेष ध्यान दें (Precautions for Diabetes Symptoms)

लंबे समय तक डायबिटीज की समस्या रहने पर नर्व डैमेज होने लगती है, जिससे पैरों में सेंसिटिविटी काफी कम हो जाती है। अगर आपको पैरों में कोई सनसनी महसूस नहीं हो रही है तो आपको घाव या इंफेक्शन की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। कई बार यह संक्रमण गंभीर रूप भी ले सकता है।

मधुमेह रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि और खराब रक्त परिसंचरण के कारण संक्रमण ठीक नहीं हो सकता है। इस कारण मधुमेह रोगियों में गंभीर संक्रमण होने का खतरा बहुत अधिक होता है। हालांकि, समय पर लक्षणों का पता लगाकर और इलाज कराकर इससे बचा जा सकता है। ऐसे में जरूरी है कि रात को सोने से पहले अपने पैरों पर ध्यान दें।

Precautions for Diabetes: डायबिटीज के मरीजों को रात में सोने से पहले जरूर करनी चाहिए ये चीजें, मिलेगा फायदा, आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें कमेंट में जरूर बतायें.

यह भी पढ़ें

Cold Home Remedies: सर्दी में गले में कुछ अटका हुआ महसूस होना सर्दी जुकाम के हो सकते हैं संकेत, जानिए कैसे करें इलाज

Urin Problem: पेशाब रोककर रखते हैं तो, जरूर जान लें

Mushroom Benefits | मशरूम के चमत्कारिक फायदे

Weight Loss के लिए पिएं ये पांच Desi drinks, 15 दिनों में दिखने लगेगा असर

Author: Vicky
Vicky, इस ब्लॉग वेबसाइट का फाउंडर है। बचपन से ही इनकी रूचि लेखन क्षेत्र में रही है। इनका लक्ष्य हिंदी भाषी क्षेत्र के लोगों के लिए हिंदी में जानकारी उपलब्ध करवाना है, जिन्हें अंग्रेजी में समस्या होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *